शिक्षण योजना तैयार करते समय ध्यान रखने योग्य बातें | Things to keep in mind while Preparing an Education Plan in hindi

1. छात्र-छात्राओं की उम्र तथा कक्षा, 2. प्रत्येक कक्षा में छात्रों की संख्या, 3. बच्चों की सीखने की शैली, 4. विषय की प्रकृति, 5. शिक्षण में प्रयोग की
Things to keep in mind while Preparing an Education Plan in hindi

शिक्षण योजना तैयार करते समय निम्नलिखित कारकों को ध्यान में रखना चाहिए-

1. छात्र-छात्राओं की उम्र तथा कक्षा:- योजना निर्माण छात्र/छात्राओं की उम्र तथा उनकी कक्षा को ध्यान में रखकर करना चाहिए। उनके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए किसी भी चिन्ता को ध्यान में रखते हुए, उपलब्ध संसाधनो, उपयोग किए जाने वाले उपकरण और गतिविधियों और ऑनलाइन सत्रों की समय अवधि आदि को ध्यान में रखना चाहिए। जैसे प्री-स्कूल के बच्चों के लिए, मोबाइल या लॅपटॉप पर ऑनलाइन कक्षाओं को रोकना चाहिए। उनके लिए, इस उद्देश्य के लिए टैलीविजन और रेडियो का उपयोग किया जा सकता है। उन्हें अच्छे टेलीविजन प्रोग्राम दिए जा सकते हैं, जो शिक्षण, फिल्मों आदि का उपयोग करते हुए उनके दिन-प्रतिदिन के जीवन से जुड़े हुए हो। कक्षा 3 से नीचे के बच्चों के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन क्रियाकलापों के लिए मोबाइल और कम्प्यूटर अनुप्रयोग की उपलब्धता के मामले । में, माता-पिता को डिजिटल डिवाइस और बच्चे के बीच एक सेतु के रूप में कार्य करना चाहिए।

2. प्रत्येक कक्षा में छात्रों की संख्या:- प्रत्येक कक्षा में छात्रों की संख्या पर विचार किया जाना एक अन्य मुख्य कारक है। उपलब्ध डिजिटल उपकरणों के आधार पर बच्चों के विभिन्न समूहों के लिए शिक्षकों को विभिन्न ऑनलाइन रणनीतियों की योजना बनाने हेतु आवश्यक है कि वे ध्यान में रखें कि छात्रों को डिजिटल उपकरण उपलब्ध हो सकें।

3. बच्चों की सीखने की शैली:- शिक्षकों को पता होना चाहिए कि उनकी कक्षा में सभी छात्रों की सीखने की शैली अलग-अलग है। कुछ बच्चे पढ़कर सीखते हैं, कुछ सुनकर और कुछ करके। इस प्रकार समूह बार सत्री की योजना बनाते समय शिक्षक इन शिक्षण शैलियों पर विचार कर सकते हैं।

4. विषय की प्रकृति:- यह बात महत्त्वपूर्ण है कि अलग-अलग विषयों का शिक्षा शास्त्र अलग-अलग है। जैसे, गणित वर्ग में चर्चाओं के बजाय संख्यात्मक समस्याओं को हल करने के लिए अधिक समय दिया जा सकता है, और एक सामाजिक विज्ञान सत्र के लिए गहन / लम्बी चर्चा की आवश्यकता हो सकती है क्योंकि बच्चे दिए संदर्भों से सम्बत है।

5. शिक्षण में प्रयोग की जाने वाली भाषा:- हमारे देश की बहुभाषी प्रकृति को ध्यान में रख हुए डिजिटल शिक्षा के अन्तर्गत प्रस्तुत कार्यक्रम और सामग्री उसी भाषा में होनी चाहिए, जिसे छात्र/छात्राएँ भली प्रकार समझ सके।

6. बच्चों के आपसी परिवारिक सम्बन्ध:- स्कूल में विविध सामाजिक-आर्थिक पृष्ठभूमि मे सम्बन्धित छात्र आते हैं। कुछ को अपनी शिक्षा में अपने माता-पिता का पूरा सहयोग मिलता है, लेकिन कुछ मामलों में, माता-पिता को अशिक्षा के कारण या यदि वे अपने घरेलू काम में अत्यन्त व्यस्त है, तो वे अपने बच्चों का सहयोग करने में समक्ष नहीं होते हैं। इसलिए, डिजिटल शिक्षा की योजना बनाते समय माता-पिता की आर्थिक स्थिति तथा सहयोग को भी ध्यान में रखा जाना चाहिए।

7. डिजिटल उपकरणों तक पहुँच:— सभी छात्रों के पास घर पर डिजिटल उपकरण उपलब्ध नहीं है। उपलब्धता की स्थिति में इन साधनों तक उनकी पहुंच नहीं होती है। क्योंकि मोबाइल आदि उपकरण उन वयस्कों के होगे जो घर से बाहर काम पर जाते हैं तथा उन्हें घर पर नहीं छोड़ सकते है।

8. शिक्षकों/विद्यालयों के लिए डिजिटल उपकरणों एवं संसाधनों की उपलब्धता:- योजना बनाते समय, शिक्षको, विद्यालयों के साथ उपलब्ध उपकरणों को भी ध्यान में रखना चाहिए। शिक्षकों को चाहिए कि बच्चों को इन संसाधनों का सन्दर्भ देने से पहले ई-सामग्री और उनकी गुणवत्ता को देखने विश्लेषण करने की आवश्यकता है।

9. कक्षा / बातचीत / वीडियो (ऑनलाइन) की अवधि:- यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण कारक है। जिसे किसी भी योजना बनाते समय विचार करने की आवश्यकता है। इसके लिए शिक्षकों को अपनी सुविधा के अनुसार सत्र की योजना बनाने के लिए पहले से ही माता-पिता और छात्रों से बात करने की आवश्यकता है। उनके साथ तकनीकी सहायता की पहुँच और उपलब्धता का भी पता लगाया जाना चाहिए। इन सत्रों और कक्षाओं की अवधि को बच्चों के आयु समूह के अनुरूप बनाने की आवश्यकता है।

10. दिए गए कार्य की प्रकृति:- डिजिटल/ऑनलाइन सीखने के साथ, छात्रों को कार्य प्रदान करना एक प्रेरक और आकर्षक कारक माना जाता है दिए जाने वाले कार्य को छात्रों की रुचिनुसार डिजाइन किए जाने की आवश्यकता है।

11. प्रेरणा पद:- छात्रों को नियमित रूप से अपने कार्यों, असाइनमेन्ट, उत्तरों, प्रश्नों आदि पर सकारात्मक टिप्पणी देने की आवश्यकता होती है. एक पूर्ण असाइनमेन्ट के इन्तजार के स्थान पर यदि छात्र असाइनमेन्ट करने की प्रक्रिया को स्पष्ट करते है या ऐसा करने में संलग्न है, तो उन्हें सराहना प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।

12. माता-पिता की भागीदारी:- 3 से 12 वर्ष की आयु वर्ग के छात्रों के लिए ऑनलाइन कक्षाओं में भाग लेते समय तथा टी०वी० देखते समय निर्देशन आवश्यक होता है। इस महत्त्वपूर्ण भूमिका को निभाने के को जिम्मेदारों माता-पिता पर आ जाती है कि वे उस समय अपने बच्चों के साथ रहे तथा उचित निर्देशन प्रदान करें तथा उत्पन्न समस्याओं का अध्यापकों के साथ मिलकर समाधान करें।

13. साइबर सुरक्षा:— ऑनलाइन तथा डिजिटल शिक्षा की योजना बनाने से पहले, शिक्षकों और स्कूल प्रमुखों के द्वारा ऑनलाइन शिक्षा के लिए क्या करें और क्या न करें, की सूची होनी चाहिए। इस पर छात्रों ओर अभिभावकों से चर्चा भी की जानी चाहिए।

14. विशेष आवश्यकता:- डिजिटल शिक्षा के नियोजन और विस्तार के लिए विशेष आवश्यकताओं वाले बच्चों (कक्षा) को उनकी श्रवण, दृश्य, शारीरिक बौद्धिक और भावनात्मक विशेषताओं के आधार पर पहचाना जाना चाहिए ताकि शिक्षक तदनुसार ई-बुक्स, ऑडियो/ टॉकिंग पुस्तकों, ब्रेल पुस्तकों, डिजिटल के साथ पाठ की योजना बना सकें। सुलभ सूचना प्रणाली (DAISY पुस्तकें), मौजूदा डिजिटल संसाधनों में एकीकरण पर प्रतिलिपि अनुवाद, वॉयस के साथ भाषा वीडियो पर अपनी पहुँच बना सके।

15. समय सारिणी की समग्र योजना:- स्कूल को किसी दिए गए कक्षा में शिक्षार्थी के लिए एक सिंक्रनाइज दृष्टिकोण सुनिश्चित करना होगा। प्रत्येक विषय पर शिक्षक दिन के कई घंटे ऑनलाइन सत्र आयोजित करने पर जोर नहीं दे सकते। उदाहरण के लिए, स्कूल प्रत्येक स्तर की स्कूली शिक्षा के लिए निश्चित समय/दिन स्क्रीन समय निर्धारित कर सकते हैं-यह समय अवधि निम्न प्राथमिक, उच्च प्राथमिक और माध्यमिक और वरिष्ठ माध्यमिक के लिए अलग-अलग होती है।

16. मूल्यांकन की प्रकृति:- निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखते हुए मूल्यांकन की योजना बनाने की आवश्यकता है-

  • (a) पेन-पेपर पर बहुत अधिक निर्भरता से बचा जा सकता है। ऑनलाइन कक्षाओं, सोशल मीडिया, ब्लॉग और मोबाइल फोन के माध्यम से मूल्यांकन के वैकल्पिक तरीकों को बढ़ावा देने की आवश्यकता है।
  • (b) लॉकडाउन के दौरान छात्रों की गतिविधियों को प्रोजेक्ट, पोर्टफोलियो, घर पर आधारित प्रयोगों का संचालन, परिवार के सदस्यों और बड़ों के साथ बातचीत, गद्य, कविता बनाने और साक्षरता कौशल में सुधार जैसे मूल्यांकन के वैकल्पिक तरीकों को बढ़ावा देना चाहिए। इनके अनुसार आकलन करने की आवश्यकता है।
  • (c) खुली किताब की परीक्षा ली जा सकती है। खुली किताब मूल्यांकन के लिए विषय विशेषज्ञो और मूल्यांकन विशेषज्ञों द्वारा गुणवत्ता परीक्षण प्रपत्र तैयार किए जाने की आवश्यकत्ता है।
  • (d) सार्वजनिक स्वच्छता से सम्बन्धित मुद्दों का मूल्यांकन ग्रेड और अंकों के लिए नहीं किया जा सकता है क्योंकि इस प्रकार का स्कोर विश्वसनीय नहीं हो सकता है। एक छात्र एक सुन्दर चार्ट बनाने में अच्छा हो सकता है। स्वच्छता पर एक बहुत अच्छी कविता की रचना की जा सकती है किन्तु स्वच्छता का पालन करना या न करना अलग पहलू है, क्योंकि इस प्रकार के कार्य के मूल्यांकन के लिए छात्रों का प्रत्यक्ष उपस्थित होना अति आवश्यक है। तथा ऑनलाइन प्रक्रिया में इस प्रकार का मूल्यांकन सरल नहीं है।
  • (e) स्थानीय कोरोना योद्धाओं, इस प्रकार की सेवाओं, गतिविधियों, ड्यूटी की लाइन में लगे लोग, स्वास्थ्य कार्यकर्त्ता और सैनिक जैसे सभी लोगों के साथ और सभी ग्रेड के लिए बहुत अच्छी तरह से एकीकृत किया जा सकता है। इसमें भाषा के साथ गणित और भूगोल जैसे विषय शामिल हैं।

Read also

Post a Comment

Oops!
It seems there is something wrong with your internet connection. Please connect to the internet and start browsing again.
AdBlock Detected!
We have detected that you are using adblocking plugin in your browser.
The revenue we earn by the advertisements is used to manage this website, we request you to whitelist our website in your adblocking plugin.